पैसा कोई भेदभाव नहीं करता, हर व्यक्ति पैसा कमा सकता है ।

पैसा कोई भेदभाव नहीं करता, हर व्यक्ति पैसा कमा सकता है ।








दृढ़ संकल्प के साथ  दो  शब्दों में परिवर्तन लाऐ  । जीवन में धन – दौलत कमानी है तो :-∙ मेहनत को प्रयत्न में बदले  ।∙ गारंटी  को विश्वास में बदले ।

पैसा किसी से भी भेदभाव नहीं करता है उसे ना ही इस बात से फर्क पड़ता है कि आप किस धर्म से है किस जाति ( वर्ग ) के है आप का किस परिवार  से सम्बंध है आप किस देश में रहते है । आप ने कल क्या  किया था ।  को पैसा इस बात से कोई फ़र्क नहीं पड़ता । हर रोज नया सवेरा होता है आपके पास भी सभी  व्यक्तियों  की तरह आधिकार और मौके होते है। आप दौलत के खजाने में से जितना चाहे ले सकते है ।
आप को एक चीज जो पैसा   को लेने से रोकती है।  वह आप  के विचार पैसे के बारे में  आप की मान्यताऐ और  धारणाऐ , जैसे :-
∙ पैसे पेड़ पर नहीं उगते ।
∙ पैसा बड़ी मेहनत से आता है ।
∙ पैसे वाले लोग बेईमान होते है ।
पैसा कोई भेदभाव करने की यंत्र  (मशीन ) नहीं है पैसा कोई  फैसला नहीं ले सकता कि आप इसके हक़दार है या नही । संसार के हर ब्यक्ति के पास उतनी ही  दौलत है जितनी खजाने में से वह ले लेता  है। ऐसी कोई तरकीब नहीं है कि पैसा यह समझ सके यह किसके पास है  उसकी मंशा क्या है वह कितना पढ़ा  लिखा है  या अनपढ़  है पैसे के हाथ ,पाव ,आँख ,कान नहीं होते है यह निर्जीव होता है। पैसे केवल इस्तेमाल के लिए होते है और खर्च करने के लिए । किसी चीज में निवेश करने के लिए या बचत करने के लिए होता है । पैसा लालच , लड़ाई , परिश्रम करवाने के लिए होता है ।
पैसे वाले लोग अलग -अलग तरीके के होते है । जिस ब्यक्ति की अमीर होने की सम्भावना बहुत ही कम होती है वह ज्यादा  दौलत मंद वाला निकल जाता है । इनमे समझदार ब्यक्ति से लेकर मुर्ख ब्यक्ति तक हो सकते है ।कोई ब्यक्ति सभ्यता वाला होता है और कोई असभ्यता वाला , कोई ब्यक्ति हिम्मत वाला होता है कोई ब्यक्ति डरपोक ।
पर हर अमीर इंसान ने आगे  बढकर ये कहा है । जी हा मैं धन -दौलत के खजाने में हिस्सा चाहता हूँ। जबकि गरीब इंसान कहता है  मैं इसके लायक ही नहीं हूँ और ना हक़दार हूँ मैं इतना  धन नहीं ले सकता मुझे नहीं चाहिए  । हम मान लेते है कि गरीब  इंसान अपने हालात, मजबूरी, अपने आस -पास का वातावरण , पालन – पोषण के कारण गरीब होते है  । दुनिया में कोई भी ब्यक्ति धनवान बन सकता है आपको केवल यह निश्चय करना होगा की मैं दौलत मंद ब्यक्ति बन सकता हूँ।
दोस्तों इन सब बातो का ध्यान  रखकर ही मैंने आपके लिए मनी चालीसा पुस्तक  (बुक ) व ऑडियो सीडी  बनाई है जिसके पढ़ने व सुनने से आपके पैसे के प्रति विचार, धारणाऐ, मान्यताऐ सकारात्मक  (पॉजिटिव) हो जाएगी और आप अपने जीवन में धन – दौलत, अच्छी सेहत, समाज में सेवा के भागीदार होगें।

No comments:

Post a Comment