7 अपने मन को पैसा खींचने वाले चुम्बक में बदलने के अचूक उपाय

Law of attraction for Money


क्या आपको पता है कि आपके वर्तमान आर्थिक हालात का आपके मन और पैसे के साथ सीधा सम्बन्ध है? चौंक गए न...लेकिन सच यही है...
 
यह मानना मुश्किल है कि अगर आप अपने मन-मुताबिक पैसे नहीं कमा पा रहे हैं तो असल में अपने अवचेतन मन के स्तर पर आप अपने पास पैसा आने का विरोध कर रहे हैं। इसे आप आराम से अपनी रोज की आदतों, व्यवहार एवं कार्यों में देख सकते हैं। ये वही नकारात्मक विचार हैं, जो आपके अवचेतन मन के अन्दर गहराई से जमे हुए हैं।

बचपन से ही हमारे मन में यह बात कूट-कूट कर भर दी जाती है कि पैसा ही सारी बुराइयों की जड़ है, इसलिए हमें ज्यादा धन इकट्ठा करने की दौड़ में शामिल नहीं होना चाहिए बल्कि जो है, उसी में संतोष करना चाहिए- इसीलिए अब हमें अपनी आर्थिक हालत को बदलने के लिए इस भ्रम से बाहर निकलना पड़ेगा।
तो आइए, अपने मन की शक्ति को जगाएँ और आर्थिक समृद्धि पाएँ। यहाँ आपके मन को एक पैसा खींचने वाले चुम्बक में बदलने के लिए सात बेहद अचूक उपाय सुझाए गए हैं-

1.   अपने पास आने वाले एक-एक आने की प्रशंसा कीजिए- पैसा चाहे थोड़ा-सा आए या ज्यादा मात्रा में, आपको अपने पास आने वाले एक-एक आने का उपहार मानकर धन्यवाद करना है। आपका हरेक धन्यवाद ब्रह्मांड तक यह संदेश पहुँचाएगा कि आप पैसे को बेहद प्यार करते हैं और वह आपके पास ज्यादा से ज्यादा भेजने की व्यवस्था करने लगेगा।

2.   अपने साथ ईमानदार रहिए- क्या आप उन लोगों में से एक हैं जो इस बात पर बहुत ज्यादा ध्यान देते हैं कि दूसरे आपके बारे में क्या सोचते अथवा कहते हैं? अगर हाँ, तो इसे तुरन्त बन्द कर दीजिए। आप क्या चाहते हैं और क्या नहीं, इसे अपने मन में एकदम साफ़ तय कर लीजिए। इससे न केवल आप बार-बार की गड़बड़ियों से बचेंगे बल्कि जीवन के दूसरे महत्त्वपूर्ण उद्देश्यों पर अपना ध्यान ठीक तरह से लगा सकेंगे।

3.   आर्थिक असुरक्षा की भावना को ही खत्म कर डालिए- अपना सारा ध्यान ब्रह्मांड पर विश्वास जमाने में लगा दीजिए, इसमें आपको कभी धोखा नहीं मिलेगा, न ही आपका कोई नुकसान होगा। यहाँ तक कि अगर परेशानियाँ भी आएँ तो भी पूरी तरह शांत बने रहें। आप देखेंगे कि चीजें फ़िर आपके अनुसार चलने लगेंगी।

4.   अपने अवचेतन मन की शक्ति को जगाइए- क्या अपको पता है कि आपकी आदतों, कार्य-व्यवहार और धारणाओं के 95-97% हिस्से पर अवचेतन मन का शासन होता है। यानी अगर आपने अवचेतन मन को पैसे के प्रति नकारात्मक भावों से भरा गया है तो निश्चित रूप से यह आपके पैसा आकर्षित करने की सारी संभावनाओं और प्रयासों को बिगाड़ कर रख देगा।

5.   क्या आपने पैसे के प्रति नकारात्मक छवि बना रखी है? ज़रा खुद से आगे लिखे कुछ सवाल पूछिए तो :
  •   क्या आपके क्रेडिट कार्ड का बिल हमेशा बहुत ज्यादा आता है?
  •   क्या आप हमेशा अपनी आर्थिक हालात से जूझते हैं और उसे पूरा करने के तरीकों के बारे में सोचते रहते हैं?
  •   क्या आप हमेशा यह कहते रहते हैं कि पैसा उतनी बड़ी चीज नहीं जितना कि संतोष महत्त्वपूर्ण है?
  •  क्या आपने मान लिया है कि ‘प्रकृति मुझे धनी बनने ही नहीं देना चाहती?’

अगर आपके अधिकतर उत्तर ‘हाँ’ में हैं, तो आप समझ गए होंगे कि फ़ोकस किस चीज पर करना है!

6.   अपनी इच्छाओं की सूची लम्बी बनाएँ- तो बात यह है कि अगर आपके पास खूब पैसा होता तो आप अपनी इच्छित चीजों की जमकर खरीददारी करते। आप उन सब चीजों की एक सूची बना लीजिए और आप उन्हें रोजाना कहाँ-कहाँ देख सकते हैं, इसकी निशानदेही कर लीजिए। अब आप जान जाएँगे कि आप अपनी इच्छित चीजों को कैसे पा सकते हैं या किस तरह उन्हें पाने की संभावनाएँ बना सकते हैं।

7.   अमीर और समृद्धिशाली लोगों से जुड़िए- जी हाँ, यह बहुत जरूरी है क्योंकि जब आप उन लोगों से मिलेंगे जो स्वयं बहुत समृद्धिशाली और अमीर हैं तो आपको उनके रहन-सहन, व्यवहार आदि की विशिष्टताएँ पता चलेंगी। पैसे के प्रति आपके अवचेतन मन के भावों को अधिक सहज और प्रभावशाली तरीके से बदलने का ये भी एक जरूरी उपाय है।

अपने अवचेतन मन को प्रशिक्षित कीजिए। पैसे के प्रति उसके नकारात्मक भाव को निकाल फेंकिए और उसे ज्यादा से ज्यादा धन आकर्षित करने के सकारात्मक भाव से भर दीजिए। इसके लिए हमारे आजमाए हुए तरीकों को जरूर अपनाइए और हमारे प्रसिद्ध ‘मनी चालीसा वर्कशॉप’ और ‘मनी चालीसा कॉम्बो पैक’ के बारे में अधिक से अधिक जानकारी जुटाइए ताकि आप अपने मन को पैसा आकर्षित करने वाले चुम्बक में बदल सकें।


7 Best Tips to Make Your Mind a Money Magnet



Do you know that your current financial circumstances are the direct result of the relationship between your mind and money? Surprised…yes it’s true.
It may be hard to believe that if you’re unable to manage your finances then at an unconscious level you may actually be repelling money. This is can be observed in your everyday habits, behaviors and actions. There are those deep-seated negative beliefs in your subconscious mind.
Right from childhood, most of us are programmed to think and feel that money is the root of all evil and we should not run after amassing money but should seek contentment in whatever we have. THAT’S WHAT WE HAVE TO DECONSTRUCT IN ORDER TO CHANGE OUR FINANCIAL REALITY!
Leverage the power of your subconscious mind to attract and create financial success.  Here are the seven best tips to make your mind into a money magnet.
1.     Praise every bit of money that comes to you. Whether the amount is big or small, thank every single penny that comes your way. It’s a gift. Every time you do this, you tell the Universe that you love money and it can send you some more.
2.     Be true to yourself. Are you the one who contemplate too much into what others say or think about you? If yes, then stop it right now. Be clear in your mind what you want and don’t want. This makes your life clutter-free and helps you to focus on the important things in life.
3.     Kill feelings of financial insecurity. Put all your faith in the power of Universe and it will never let you fall off. Even in the toughest situations, stay calm and confident, things will start falling in your stride.
4.     Uncover the power of subconscious mind. Are you aware that your subconscious mind controls almost 95-97% of your opinions, habits and actions? This means if your subconscious mind is negatively programmed for money, then it will sabotage all your efforts towards taking advantage of money making opportunities.
5.     Do you possess negative money vibes? Ask yourself the following questions:
·         Is your credit card bill always huge?
·         Are you constantly thinking about how to meet your financial commitments?
·         Do you often say money is not good but contentment is more important?
·         Do you believe that “Nature does not want me to be rich”?
      If you’re answer was yes to any of these, then you know where to put the axe.
6.     Make a long wish list. What all is it that you want to buy if you had lot of money? Put that down on a piece of paper and stick it where you can see that every day. Now you’ll know how to prioritize your wants in life and explore opportunities to achieve them.
7.     Associate with rich and wealthy people. Yes it is important because when you meet people who’ve amassed lot of wealth then you’ll better understand their traits. This will also condition your subconscious mind pick up those tendencies in a more nature and impactful way.
Train your mind to inculcate money making mindset by overcoming money limiting beliefs and reprogram your subconscious to reach limitless possibilities. To get on the right track with proven techniques, read more about our popular Money Chalisa Workshop and Money Chalisa Combo Pack.



How to use your self-healing power ?

Perfect harmony among mind, body and soul is what everybody needs. Whenever any pains occur, be it emotional, physical or mental – the only question that arises is how to heal yourself. There can be various ways of healing, what way suits you can be best decided by you. Nobody is a better judge than you. There are various medicines that exist but the best and the most effective antidote to any pain is the healing power within you.
All of us have an ‘inner power’ which is a strength within self that play an active role in healing us. This inner power works parallel to the external healing approaches that we adopt. An individual who cut his figure puts a band aid on the finger but that band-aid is really healing the wound? The answer is surely no as that band-aid is simply providing a support to the wound but actually it is one’s own inner healing power that heals the wound. The next question that will arise is how to use your self healing power ?   A very critical question the answer of which again happens to be very subjective.
Each individuals has their own unique way of healing.  Variety of techniques are developed and formed by the people but one thing which is required by all is the commitment. The commitment to heal self is very essential as in its absence the smallest of the problem or injury does not heal. There are various ways which can be adopted by the individual to support their healing. These ways can be self-guided meditation, counseling by positive affirmation or creative visualization to view onself totally healed and happy.
How to use self healing power has always been a thought that rules the mind in getting the most positive results for self. However, at certain times it is also seen that the self healing power fails in certain circumstances. Such situations are mainly accounted for when the person is under undue stress. The tension in one’s life plays the major role. Also it is seen that the fear and self-doubt distracts and derail the self healing powers of an individual.
The unwavering desire to lead a healthy, wealthy and happy life is the key ingredient for self-healing powers. It works for all – young and old. The self-healing powers have led to miracles in many critical situations. If you feel helpless or victim of any life situation, seek advice from experts at Hope Academy.
Call us @9999897931 or email: info@thehopeacademy.co.in to get free advice on how to realize and put to use your self healing powers.

कलर थेरेपी कैसे काम करती है?

कलर थेरेपी वैकल्पिक चिकित्सा का एक रूप है, जिसमें शरीर, मन और आत्मा को स्वस्थ करने के लिए प्राकृतिक रंगों का उपयोग किया जाता है। रंगों द्वारा स्वास्थ्य विकारों की वजह से हमारे भावनात्मक, शारीरिक और मानसिक स्तर पर हुए ऊर्जा असंतुलन को बहाल करने काम किया जाता है। हम रोजाना विभिन्न प्रकार के बहुत सारे रंग देखते हैं। प्रत्येक रंग हमारे मन पर अलग ढंग का प्रभाव डालता है, जैसे- खुशी, उदासी , अवसाद , गर्मी , शांति , क्रोध और जुनून आदि।

पल-भर ठहरकर सोचिए और बताइये कि पृथ्वी पर जीवन के सभी रूपों के लिए ऊर्जा का सबसे महत्वपूर्ण स्रोत क्या है? जी हां – यह सूर्य का प्रकाश है, जो कि अलग-अलग तरंग-दैर्ध्यों से निर्मित है। सूर्य के प्रकाश का हम पर चिकित्सकीय प्रभाव पड़ता है, खासकर सर्दियों के दौरान हम देख सकते हैं कि धूप में हमारे शरीर की प्रत्येक कोशिका पर कितना अच्छा प्रभाव पड़ता है। दृश्य प्रकाश के पूरे स्पेक्ट्रम में लाल, नारंगी, पीला, हरा, नीला, आसमानी और बैंगनी यानी सात प्रकार के रंगों का अलग-अलग तरंग दैर्ध्य होता है। हरेक रंग की अपनी अलग कंपन-आवृत्ति है और यह हमारे शरीर के अलग-अलग अंगों के साथ विशेष ढंग से जुड़ा होने के कारण उन सब पर विभिन्न संयोजनों में मिलकर विशेष प्रकार से प्रभाव भी डालता है।

आयुर्वेद के अनुसार मानव शरीर के चारों ओर एक प्रकार का प्रभामंडल होता है, जो वास्तव में शरीर के अंदर होने वाली जैव रासायनिक प्रतिक्रियाओं के परिणामस्वरूप बनाया गया एक चुंबकीय क्षेत्र है। रंगों में एक प्रकार की कंपन ऊर्जा पाई जाती है, जो स्वास्थ्य संबंधी विकारों के विभिन्न प्रकार के इलाज हेतु इस चुंबकीय क्षेत्र के साथ अंतक्रिया करती है। यह कंपन ऊर्ज़ा भीतर के ऊर्जा-संचलन को बहाल करने के लिए जैव रासायनिक प्रतिक्रियाएँ करती है।
कलर थेरेपी आजकल भावनात्मक और शारीरिक रोगों के उपचार तथा मानसिक रोगियों को विशेष रूप से ठीक करने के लिए इलाज का एक लोकप्रिय विकल्प बनता जा रहा है।

अपने विशिष्ट गुणों की वजह से प्रत्येक रंग का हमारे शरीर में अलग शारीरिक असर पड़ता है , उदाहरण के लिए, हरे रंग में एक संतुलनकारी प्रभाव पाया जाता है, इसलिए जब इसे थाइमस ग्रंथि पर टारगेट किया जाता है तो यह टी-सेल उत्पादन को विनियमित करने में मदद करता है पर जब इसे ट्यूमरों पर टारगेट करते हैं तो इसका प्रतिकूल प्रभाव लक्षित होता है।

नारंगी रंग से जहाँ पेशियों में सूजन बढ़ जाती है, जबकि बैंगनी से मांसपेशियों के दर्द में आराम मिलता है। जाहिर है, रंगों के विभिन्न प्रकार के संयोजनों का भी रोगों के इलाज में उपयोग किया जाता है, उदाहरण के लिए हरे, नीले और नारंगी का संयोजन गठिया के इलाज हेतु प्रयोग किया जाता है, हरे और पीले रंग का संयोजन मधुमेह के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है, बैंगनी और नीले रंग का संयोजन माइग्रेन के इलाज के लिए प्रयोग किया जाता है, लाल, नीला और हरा महिलाओं में बांझपन के लिए उपयोगी है तथा आसमानी और हरा कैंसर के इलाज के लिए है।

इस प्रकार आप देख सकते हैं कि हमारे ऊपर रंगों का विशिष्ट प्रभाव किस तरह काम करता है? वस्तुत: प्रत्येक व्यक्ति रंगों के प्रति अलग तरह की प्रतिक्रिया जाहिर करता है। रोग कुछ और नहीं, सिर्फ़ हमारे शरीर में कहीं पैदा हो चुकी अस्थायी रुकावट या जीवनी-शक्ति की अव्यवस्था है। रंग मानव शरीर में जैव रासायनिक और हार्मोनल प्रक्रियाओं को सक्रिय करने के लिए उत्प्रेरक का कार्य करते हैं, जिससे हमारा स्वास्थ्य पुन: अपनी उत्तम कार्यावस्था में आने लगता है। बीमारी की हालत में जब हमारे शरीर की कोशिकाएँ कमजोर हो जाती हैं तो एक अनुभवी रंग-चिकित्सक द्वारा रंगों का इस तरह प्रयोग किया जाता है कि मद्धिम ढंग से काम कर रही कोशिकाओं को ऊर्जा की एक अतिरिक्त खुराक मिलती है। रंग चिकित्सा कला और विज्ञान दोनों एक साथ है। एक रंग-चिकित्सक को इस बात की गहरी जानकारी होनी चाहिए कि किस बीमारी में किस रंग का कब, कितना और कितनी देर तक इस्तेमाल किया जाना चाहिए जिससे इलाज का वांछित असर प्राप्त हो। अन्यथा इसका दुरुपयोग होने पर प्रतिकूल परिणाम भी मिल सकते हैं।

इसलिए अपने रंग-चिकित्सक के चयन से पूर्व उसकी योग्यता, पूर्व-अनुभव और प्रतिष्ठा आदि की पूरी सावधानी से जाँच-परखकर कर लेवें।

Get rid of your money blockages

The biggest obstacle on the path to attract money comes from your own subconscious beliefs that causes you to take either wrong or no actions at all. Based on your childhood experiences, you continue to make limiting statements that creates a narrow reality for you.  If you wish to change your financial situation, you need to take responsibility for your current situation rather than blaming external factors for scarcity.


How many times you find yourself saying the following phrases:
“I never have enough money to enjoy myself.”
“I try to control my expenses but still not able to save anything.”
“It is difficult to earn money”
One should not run after money but rather be satisfied in what one has.”

Now think for a moment – is there a rationale which justifies such statements? Most probably your answer will be NO. You have come to believe them because that’s how you have been programmed since childhood when you heard your parents, friends, relatives or anyone else talk like this. These are all limiting beliefs that have chained your subconscious mind preventing it from reaching its full potential. Limiting beliefs are your own assumptions about reality which may not always be true. Your belief system is like ‘lens’ through which you see the reality - if your lens is soiled, you will get an unclear picture of the truth. When this happens, it takes away the opulence of life.

Are there any limiting beliefs that cloud your subconscious mind? Can’s say, then do this simple exercise to find out. Complete the following fill in the blanks with the thought about money that comes to your mind as you read it.
I don’t have money because ___________________________
I want lots of money but ______________________________

Here are few techniques that you can practice to identify and remove such limiting beliefs for attracting money:
  1. Be conscious of your thoughts. Whenever any negative thought about money comes to your mind write it down. Tell yourself that you no longer believe this statement to be true and are destroying it by overwriting an opposite positive affirmation.
  2. Carefully observe your surroundings without any value judgments. Be open to new ideas and suggestions.
  3. Look for the manifestation of positive affirmations and reinforce their existence in your mind.

Everyone has some or other limiting money beliefs which are actually blocking their path towards prosperity.  Begin your journey with removing these blockages and accelerate towards your goals.

We offer number of products to help you achieve your money goals.

Visit our website to know more www.thehopecademy.co.in