Research says meditation increases mind power

 Do you know it is possible to increase your mind power irrespective of your age? Yes this is true. Meditation helps to increase your mind power. Meditation involves focusing attention on one particular thing and becoming aware when the attention drifts.
Earlier it was believed that neuron connections are formed during early stages of life and brain growth stops in adolescence. But a large number of scientific researches have proved that if one practise meditation regularly, the quantity of brain cells increases and quality of brain functioning enhances.  Scientists have found that through meditation brain keeps growing throughout life. Researchers from University of Wisconsin did a study to understand the effects of meditation on the brain activity of Tibetan monks who have been practising meditation for years. They found that Tibetan monks who have been meditating for years have faster thinking and better organized and coordinated brain activities.
Most of us our so self-involved, thinking about the past events or future happenings, that we miss the significance of the present. Meditation helps us to be more attuned to the present. This unites us with the nature. Meditation has a positive impact on all the parts of brain – frontal lobe, parietal lobe, amygdala and thalamus etc. Meditation helps to improve reasoning, alertness, cognitive processing, attention, awareness and emotional well being.
A research study by University of Massachusetts Centre for Mindfulness determined that eight weeks of regular meditation produces measurable positive brain changes. This study brought to light the inherent property of brain called neuroplasticity which means brain has the ability to create new neurons and make new connections. Hope Academy’s Meditation Program is so designed to influence this property of the brain to increase our mind power. A proven and tested program, Hope Academy’s Meditation Program helps to improve focus, creativity, emotional stability and memory as well as to reduce anxiety and stress.  Our Meditation Program is equally effective for young children for improving concentration in academics as well as middle-aged and elderly people experiencing age-related cognitive dysfunctions and memory loss. The meditation program is also available as an audio CD in both English and Hindi for self practicing. It is easy and enjoyable.  To read further about how to increase mind power please log on to http://www.thehopeacademy.co.in/

Meaning of Colors in Color Therapy

.
The seven colors of rainbow, commonly known by the acronym VIBGYOR, are used in color therapy. Colors inspire emotional, physical and psychological responses. These responses have an impact on not only our moods and feelings but also on our overall health and well being. Colors are vital energy of life. Color Therapy is believed to be among the first healing technique used by man. Its origin dates back to 6th century BC by Orpheus in Greece who utilized the vibrational energy of light for healing and spiritual purposes. Several studies by the National Institute of Mental Health (NIMH) also show the impact of colors on mental responses and moods.
.
Each of the seven colors is linked to one of the seven chakras in human body. Chakras absorb the vibrational energy from the corresponding color and restore their own energy balance. Let us look at how each color can be used for curing health disorders. Red is related to the Root Chakra, positioned at the base of the spine. It is a warm and stimulating color that is known to increase blood circulation, alertness and self confidence. It has an influence on gonads.
.
Red is associated with power and is very useful in curing arthritis, pains and backaches. Excess of red leads to a dominant and angry nature. Orange is related to the Sacral Chakra, positioned at the pelvic region. It is an energizing and strengthening color that is known to enhance confidence and happiness. It has an influence on adrenal gland.
.
Orange is associated with warmth and happiness and is useful in curing kidney stones and urinary disorders. Excess of orange leads to pessimism, confusion and exhaustion.
.
Yellow is related to the Solar Plexus Chakra. It is a liberating, inspiring and thought-provoking color that is known to increase clarity of thought and mental awareness. It has an influence on pancreas. Yellow is associated with focus and concentration and is useful in curing jaundice and diabetes. Excess of yellow leads to lack of concentration and malice. .
.
Green is related to the Heart Chakra. It is a balancing and neutralizing color that is known to connect us to unconditional love and harmonizing our whole being. It has an influence on Thymus gland. Green is associated love and health and is useful in curing heart related ailments like high blood pressure and high cholesterol. Excess of green leads to jealousy, insecurity and lack of motivation.
.
Blue is related to the Throat Chakra. It is a relaxing and tranquilizing color that is known to promote communication and speech. It has an influence on Thyroid gland. Blue is associated with openness and peace and is useful in curing throat-related diseases, cough and cold. Excess of blue leads to doubt, distrust and sadness.
.
Indigo is related to the Third Eye Chakra. It is a purifying and spontaneous color that is known to strengthen gut feeling and imagination. It has an influence on Pituitary gland. Indigo is associated with inspiration and intuition and is useful in curing mind-related disorders such as migraine, stress and headaches. Excess of indigo leads to corruption, pride and arrogance.
.
Violet is related to the Crown Chakra. It is a spiritual and divine color that is known to enhance creativity and self awareness. It has an influence on Pineal gland. Violet is associated with a state of perfect bliss and contentment and is useful in curing depression, autoimmune disorders and psychosis. Excess of violet leads to fanaticism and extreme passion.
.
Thus we see each color has a particular role to play in color therapy. Hope Academy make use of these colors through various tools and techniques to energize and balance Chakras which helps to cure physical and mental diseases. Color therapy is a wonderful way to enhance health and well being for better living. Try it to believe it!

पैसा क्यों आवश्यक है ?


जीवन में कोई भी कार्य करने के लिए पैसा बहुत आवश्यक है। अगर आप अपने बच्चे को उच्च शिक्षा दिलाना चाहते हैं, एक लग्ज़री कार ख़रीदना चाहते हैं, एक आलीशान घर बनाना चाहते हैं, या समाज सेवा करना चाहते हैं, तो आपको पैसे की ज़रूरत पड़ती है। पैसे के बल पर आप कोई भी बडे़ से बडा़ कार्य कर सकते हैं। इस विषय में संस्कृत का एक श्लोक भी है-
   .
  आलसस्य कुतो विद्या, अविद्यस्य कुतो धनम्।
  अधनस्य कुतो मित्रम, अमित्रस्य कुतो सुखम्।।
.
अर्थात आलसी आदमी के पास विघा नहीं होती, जिसके पास विघा नहीं उसके पास धन नहीं होता, जिसके पास धन नहीं उसके मित्र नहीं होते, और जिसके मित्र नहीं वह सुखी नहीं होता। अर्थात आमदी के पास पैसा होना आवश्यक है।
.
अगर आदमी के पास पैसा न हो तो उसका मनोबल कम हो जाता है, वह हीन-भावना का शिकार होने लगता है, लोग उसे पूरी तवज्जो नहीं देते, न ही वह अपने बच्चों का लालन-पालन ठीक से कर पाता, और उसे अपनी सभी इच्छाओं का भी गला घोंटना पड़ता है। आदमी सोचने पर मजबूर हो जाता है कि शायद मेरी कि़स्मत में ही पैसा नहीं है, या मैं सही दिशा में प्रयास नही कर पा रहा हूं, या मुझमें ही कोई कमी है।

एक मनोवैज्ञानिक कहावत है- अगर आदमी दूसरों की नजरों में गिर जाए तो वह अपना आत्म सम्मान फिर से हासिल कर लेता है, लेकिन जब वह अपनी ही नजरों में गिर जाता है तो फिर उसे कोई नहीं उठा सकता। इसलिए ऐसी स्थिति पैदा होने से पहले, आदमी को पैसा कमाने के लिए हर संभव प्रयास करना चाहिए।
.
पैसा कमाने के भी दो रास्ते हैं-एक सही रास्ता है, और दूसरा ग़लत । सही रास्ते पर चलकर पैसा कमाने में थोड़ा समय लग सकता है।
संभवतः आप ग़लत रास्ते पर चलकर जल्दी और अधिक पैसा कमा लें। लेकिन एक कहावत है-
 .
“जैसा खाओगे अन्न, वैसा हो जाएगा मन।”
.
इसका सार यह है कि अगर आप ग़लत रास्ते से पैसा कमाते हैं, तो लाज़मी है कि आप अपने बच्चों के लालन-पालन, खाने-पीने, रहने इत्यादि सभी चीजों में उस पैसे का इस्तेमाल करेंगे। इसलिए जिनका ह़क मारकर आपने वह पैसा अर्जित किया है, उनकी बद्दुवाएं आप तक अवश्य पहुंचेंगी। जिस कारण आप कभी सुख-शांति से नहीं रह पाएंगे। इसलिए पैसा हमेशा सही रास्ते से ही कमाना चाहिए।
.
सही रास्ते पर चलने के लिए आपको कुछ बातों का ध्यान रखना आश्यक है। सबसे पहले आपको अपनी मानसिकता बदलनी होगा।
आपको पैसे को उतनी ही इज़्जत देनी होगी, जि़तनी इज़्जत आप अपने किसी विशेष अतिथि को देते हैं। क्योंकि आप उन्हें इज़्जत देते हैं, तभी वे आपके घर आते हैं। इसलिए ज़ब आप पैसे को इज़्ज़त देंगे तो वह भी आपके घर आना शुरु हो जाएगा। एक कहावत है-
.
“अतिथि देवो भवः।”
.
अर्थात अतिथि भगवान होता है। ज़रा सोचिए जब धन रूपी अतिथि यानि भगवान आपके घर आ जाएंगे तो आपको किसी प्रकार की कोई कमी नहीं रह जाएगी। इसके साथ-साथ आपको अपने मन से यह बात निकालनी होगी कि शायद आपमें पैसा कमाने की सामर्थ्य नहीं हैं, हां आप इसके लिए सही प्रयास न कर रहे हो तो वह एक अलग बात है। इसके लिए तो मैं यही कहूंगा कि जिस दिन आप अपनी सामथ्र्य को
पहचान जाएंगे, उसके बाद आपके लिए कोई भी कार्य असंभ नहीं रह जाएगा।
.
आपकी इस समस्या को दूर करने के लिए हम अपने वर्कशाप में लोगों को समय-समय पर पैसा कमाने की तकनीकें बताते रहते हैं।
दरासल, सोच को बदलने के लिए हमें अपने अवचेतन मस्तिष्क की री-प्रोग्राम करना पड़ता है, क्योंकि किसी भी कार्य में सफ़लता दिलाने में अवचेतन मस्तिष्क की अहम् भूमिका होती है। हमारे पैदा होने से लेकर बड़े होने तक, अवचेतन मस्तिष्क में विचारों का एक विशाल भंडा़र जमा होता जाता है, जो हमारे परवरिश, लालन-पालन इत्यादि से प्रभावित होता है। इसलिए अवचेतनत मस्तिष्क की री-प्रोग्राम करके उसका सदुपयोग करना आवश्यक है।
.
सही मार्ग से पैसा कमाने में थोड़ा समय लग सकता है। लेकिन हमने ऐसी चीज़ें ईजाद की है जो इस समययांतर को कम करके पैसा आने की गति को बढ़ा देती हैं। बस आपको अपना धैर्य बनाए रखना है और पूरी सूझ-बूझ से कार्य करते जाना है। जिस दिन आपके पास भरपूर मात्रा में पैसा आना शुरु हो जाएगा, तो आपको बड़ा सुकून महसूस होगा। आपका निष्क्रिय मस्तिष्क, जो दुविधा में है, वह सही दिशा में कार्य करना शुरु कर देगा। आपके मस्तिष्क में अच्छे विचार आने शुरु हो जाएंगे। आप अपने परिवार के लिए तो
हर सुख-सुविधा जुटा ही लेंगे, इसके साथ-साथ आप जनकल्याण के कार्यों में भी पैसा खर्च कर सकते हैं। जिस दिन आप जन-कल्याण का कार्य करेंगे, उस दिन आपको ऐसे आनंद का अनुभव होगा, जिसे शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता।
एक शायर ने कहा है-
.
      ’अपने लिए जिए तो क्या जिए, तू जी अ दिल ज़माने के लिए।’
.
क्योंकि अपने लिए कार्य करने से तो केवल भौतिक सुख मिलता है लेकिन जब आप दूसरे के लिए कार्य करते हैं तो उससे असीम आनंद मिलता है। इसलिए भरपूर मात्रा में पैसा अर्जित करके अपने मनवांछित कार्य करते हुए आप अपने लिए असीम सुख का द्वार खोल सकते हैं।

Psycho Neurobics And Arthritis

In medical terms, arthritis is considered as a degenerative disease affecting the musculoskeletal system. Stiffness,
pain and swelling in the joints are the main symptoms. Osteoarthritis, rheumatoid arthritis and juvenile arthritis
are the commonly occurring forms of the disease. Those suffering from arthritis experiences lot fatigue, frustration
and discomfort in their routine life.
.
Medical science has only gone so far as prescribing medicines to reduce the symptoms but a magic pill that can
remove the disease and its cause has not yet been found.
In the science of Psycho Neurobics lies the understanding and knowledge of true cause of arthritis. The techniques
of Psycho Neurobics tries to bring the imbalanced energy systems in harmony so as to relieve the patient of arthritis.
.
Root Chakra Energy Imbalance causes Arthritis
.
Root Chakra (Muldhara in Sanskrit) also known as 1stChakra or Basic Chakra acts as the energy centre for our
bones and muscles. It is responsible for the proper functioning of our musculoskeletal system. Located at the
base of spine, Root Chakra gives us physical energy and vitality. It is associated with metaphysical element of
Earth and colour red. It holds the basic human needs of survival, stability and safety. Negative emotions like
grief and anger causes energy blockages in the Root Chakra which impacts the health of musculoskeletal
system and manifests as arthritis. Feelings such as deep resentment for not being loved enough, feeling
unworthy or disconnected interferes with the energy flow from the Root Chakra.
.
Techniques of Psycho Neurobics to heal Arthritis
.
Using the following techniques of Psycho Neurobics, we can heal Arthritis:
.
1. Light Neurobics
.
a. Regulated exposure to Sunlight: Sunlight has a positive effects on our mind, body and soul. It enhances the
    feelings of  self-esteem and confidence. Our aura absorbs the vibrational energy of Sun rays and direct them
    towards Root Chakra  where it releases the blocked energy.
b. Colour Therapy: Red is the associated colour of Root Chakra. Red depicts passion and strong emotions which
     translate  into courage, will power and zeal towards life. By visualizing red colour through third eye we can
     activate and purify the Root Chakra.
.
2. Sound Neurobics: The associated note with Root Chakra is ‘C’. Chanting ‘LAM’ while doing Pranayama is a
     good exercise   for healing arthritis.
.
3. Easy Neurobics: Using techniques of ‘Centering’ and ‘Grounding’, we can dispose-off the negative beliefs
    from our subconscious mind.
.
a. Centering involves feeling relaxed.
b. Grounding refers to connecting to Mother Earth
.
There is no harm in learning these simple techniques while you continue to pop that anti-inflammatory
pill for treating arthritis. Rather when learnt and practised under the guidance of experts, these are
much safer than steroids which doctors prescribe. Take out some time to talk to the Psycho Neurobics
experts at Hope Academy on how you can conquer Arthritis and bring back energy and happiness in
your life. We look forward to your visit or call!
.



Overcome Fears & Develop Courage

Have you ever hesitated to – perform on the stage, speak publicly, compete in sports or dance, start a new job or do any other such thing that we so dearly want but unable to do. All these limitations are the result of our self-invented fears which now come to block our mental circuits. What is fear?
.
Fear is a natural emotion that is triggered by any perceived threat and causes a person to immediately go away and hide from the dangerous situation. It is actually a kind of survival mechanism in animals but when it gets out of control and hinders an individual from leading a normal life or doing things that he would otherwise love to do it becomes a negative trait of one’s personality.
.
Most people I have met have some kind of fear of rejection, failure, examination, intimacy, death, driving, and the most common of all, public speaking. This prevents them from experiencing new things and utilizing their potential to the full. Medical researchers classify fear as psychological disorder in which the breadth and depth of anxiety responses are inappropriately large.
.
The top 10 fears that I believe most Indians experience are of God’s wrath, self-doubt, death, being a failure, war, violence, being alone, uncertainty of future and public speaking.
.
NLP Techniques is the best way to instil courage and dissolve our inner fears. It teaches how to think differently, get over hesitations that pull you down in life and change your life dramatically.
.
We at Hope Academy use five NLP techniques of dissociation, content re frame, anchoring, rapport and belief to guide people in building courage to face the reality and achieve both personal and professional success. Let us briefly look at each of these techniques:
.
1. Dissociation – Certain situations trigger negative reactions that exaggerate and cause stress or depression. This NLP technique helps a person detach from the situation, see it as an observer and then assess your behavior objectively.
.
2. Content Re frame – Through this technique, one tries to understand a situation in a different frame which is more positive and empowering. Specifically useful when you feel angry, powerless and downtrodden.
.
3.Anchoring – A wonderful technique to uplift someone’s mood when the other person is feeling low and upset. It involves making someone feel supported through touch or talk to stimulate a positive emotional response.
.
4. Rapport – This NLP technique involves building a rapport with the person through empathizing using similar body language or words. This enables one to open their heart and vent out their hidden emotions.
.
5. Belief Change – Belief forms the basis on which we interpret life’s events. Sometimes owing to our childhood experiences, we create a belief system that is self-limiting in our actions and behaviors. The personal counseling sessions with our NLP practitioners will bring about a positive change in your perceptions and belief system.
.
Quick Tips to Develop Courage
.
a. Face situations, events or people that you fear
.
b. Strengthen the power of your mind
.
c. Shield your thoughts from any negative influences
.
d. Understand reasons for your fear
.
e. Make a conscious effort to develop your lifestyle
.
f. Have self-confidence
.
g. Develop a hobby and master it
.
h. Explore new things and talk about them
.
i. Don’t give too much importance to what others say.

स्पर्श

.
एक जगह कुछ सामान नीलाम हो रहा था। सामान में एक पुराना सितार था। जब उस सितार की बोली लगने का नम्बर आया तो आयोजकों ने सोचा कि इस सितार की बोली में समय नष्ट करना उचित नहीं, इस पुराने सितार को जो जितने में भी ख़रीदे, बेच देना चाहिए।
.
उसने फटाफट से सितार उठाया और बोला कि जल्दी से इसकी बोली लगाइये। पुराना सितार है इसलिए केवल दो सौ रुपये से इसकी बोली शुरू की जा रही है। आयोजक यह घोषणा कर ही रहा था कि अचानक भीड़ में से निकलकर एक व्यक्ति आगे आया और उसने सितार उठा लिया। उसने जेब से रूमाल निकाल कर सितार की धूल-मिट्टी साफ़ की और फिर सलीके़ से उसे बजाने लगा। उसने सितार के तारों को छुआ ही था, कि सात स्वर वातावरण में बिखर गए। वह काफी़ देर तक मस्ती में सितार बजाता रहा।
.
 जब संगीत थम गया तो आयोजक ने धीमी आवाज़ में कहा-“हाँ तो ज़नाब, इस सितार की क्या की़मत होनी चाहिए?”  “तीन हजा़र”-भीड़ में से आवाज़ आई  बोली बढ़ती गई और अंततः वह सितार दस हजार में बिका। पुराने से सितार में सुर भरकर कलाकार ने उसकी की़मत पचास गुना बढा़ दी। यह है स्पर्श का महत्व!
.

हीरों से भरा खेत

हफीज अफ्रीका का एक किसान था। वह अपनी जिंदगी से खुश  और संतुष्ट था। ह़फीज खुश  इसलिए था कि वह संतुष्ट था। वह संतुष्ट इसलिए था क्योंकि वह खुश  था। एक दिन एक अक्लमंद आदमी उसके पास आया। उसने हफ़ीज को हीरों के महत्व और उनसे जुड़ी ताकत के बारे मे बताया। उसने हफ़ीज  से कहा, “ अगर तुम्हारे पास अंगूठे जितना बड़ा हीरा हो, तो तुम पूरा शहर खरीद सकते हो, और अगर तुम्हारे पास मुट्ठी जितना बड़ा हीरा हो तो तुम अपने लिए शायद पूरा देश ही खरीद लो।” वह अक्लमंद आदमी इतना कह कर चला गया। उस रात हफ़ीज सो नहीं सका। वह असंतुष्ट हो चुका था, इसलिए उसकी ख़ुशी  भी खत्म हो चुकी थी। .
दूसरे दिन सुबह होते ही हफ़ीज ने अपने खेतों को बेचने और अपने परिवार की देखभाल का इंतजाम किया, और हीरे खोजने के लिए रवाना हो गया। वह हीरों की खोज में पूरे अफ़्रीका में भटकता रहा, पर उन्हें पा नही सका। उसने उन्हे यूरोप में भी ढूँढा, पर वे उसे वहाँ भी नहीं मिले। स्पेन पहुँचते-पहुचँते वह मानसिक, शारीरिक और आर्थिक स्तर पर पूरी तरह टूट चुका था। वह इतना मायूस हो चुका था कि उसने बार्सिलोना (Barcelona) नदी में कूद कर खुदकुशी कर ली।
.
इधर जिस आदमी ने हफ़ीज के खेत खरीदें थे, वह एक दिन उन खेतों से होकर बहने वाले नाले में अपने ऊंटों को पानी पिला रहा था। तभी सुबह के वक्त उग रहे सूरज की किरणें नाले के दूसरी ओर पड़े एक पत्थर पर पडी़, और वह इंद्रधनुष की तरह जगमगा उठा। यह सोच कर  कि वह पत्थर उसकी बैठक में अच्छा दिखेगा, उसने उसे उठा कर अपनी बैठक में सजा दिया। उसी दिन दोपहर में हफ़ीज को हीरों के बारे मे बताने वाला आदमी खेतों के इस नए मालिक के पास आया। उसने उस जगमगाते हुए पत्थर को देख कर पूछा, “ क्या हफ़ीज लौट आया ? नए मालिक ने जवाब दिया, “नही, लेकिन आपने यह सवाल क्यों पूछा? ” अक्लमंद आदमी ने जवाब दिया, “ क्योंकि यह हीरा है। मैं उन्हें देखते ही पहचान जाता हूँ।” नए मालिक ने कहा, “नही, यह तो महज एक पत्थर है। मैंने इसे नाले के पास से उठाया है। आइए, मैं आपको दिखाता हूँ। वहाँ पर ऐसे बहुत सारे पत्थर पड़े हुए हैं। उन्होंने वहाँ से नमूने के तौर पर बहुत सारे पत्थर उठाए, और उन्हें जाँचने-परखने के लिए भेज दिया। वे पत्थर हीरे ही साबित हुए। उन्होंने पाया कि उस खेत में दूर-दूर तक हीरे दबे हुए थे।

भाग्य उनकी मदद करता है, जो अपनी मदद खु़द करते हैं

.
एक कस्बे में बाढ़ आई। एक आदमी के सिवा वहाँ रहने वाला हर आदमी किसी सुरक्षित स्थान पर जा रहा था। जिस आदमी ने अपनी जगह नहीं छोडी़, उसका कहना था, “मुझे विश्वास है कि भगवान मेरी रक्षा करेगा।” पानी का स्तर बढ़ने पर उसे बचाने के लिए एक जीप आई। पर उस आदमी ने यह कह कर जाने से इन्कार कर दिया, “मुझे विश्वास है कि भगवान मेरी रक्षा करेगा।” पानी का स्तर और बढ़ने पर वह अपने मकान की दूसरी मंजिल पर चला गया। तब उसकी मदद करने के लिए एक नाव आई।
.
उस आदमी ने उसके साथ भी यही कह कर जाने से इनकार कर दिया कि “मुझे विश्वास है, भगवान मेरी रक्षा करेगा।” पानी का स्तर बढ़ता जा रहा था। वह आदमी अपने मकान की छत पर चला गया। उसकी मदद के लिए हेलीकाप्टर आया। लेकिन उस आदमी ने अपनी वही बात फिर दुहराई “मुझे विश्वास है, भगवान मेरी रक्षा करेगा।” आखि़रकार वह डूब कर मर गया। भगवान के पास पहुँचने पर उसने उनसे गुस्से भरे लहजे़ में सवाल किया, “मुझे आप पर पूरा विश्वास था, फिर आपने मेरी प्रार्थनाओं को अनसुना कर मुझे डूबने क्यों दिया?” भगवान ने जवाब दिया, “तुम क्या सोचते हो- तुम्हारे पास जीप, नाव और हेलीकाप्टर किसने भेजा था?”
.

सौहार्द


झब्बूमल जी को स्वर्ग और नरक, दोनों में घूमने का अवसर दिया गया। पहले झब्बूमल जी नरक में गए। नरक में उपस्थित सभी लोग एक दावत की मेज़ पर बैठे थे। मेज़ तरह-तरह के पकवानों से सजी हुई थी। लेकिन फिर भी किसी के चेहरे पर मुस्कान नहीं थी। उल्लास और खुशी की बजाय सुस्त और उदास बैठे लोग एक-दूसरे का चेहरा देख रहे थे।
.

झब्बूमल जी ने ध्यान से देखा तो पाया कि प्रत्येक व्यक्ति की बांई बाजू के साथ खाना खाने का काँटा और दायीं बाजू पर खाना खाने की छुरी बंधी थी। प्रत्येक में चार पायों वाला हैंडल था, जिसके कारण खाना खाना असम्भव हो गया था। इसलिए सभी प्रकार के व्यंजन मौजूद होने के बावजूद, सभी भूखे थे।
.
दूसरा पडा़व स्वर्ग का था। वहाँ भी बिल्कुल ऐसा ही दृश्य था। वही खाना, वही हैंडल, वही छुरी, वही काँटें! लेकिन  स्वर्ग के लोग बहुत खुश थे और हँस रहे थे। यह देख  झब्बूमल जी सोचने लगे कि समान परिस्थितियों के बाद भी दोनों जगह के माहौल में इतना अन्तर कैसे! तभी उन्हें अपने सवाल का जवाब भी मिल गया। नरक में प्रत्येक व्यक्ति खाना खाने का प्रयास कर रहा था, लेकिन छुरी-काँटे हाथ में बन्धे होने के कारण यह असम्भव था।
.
स्वर्ग में प्रत्येक व्यक्ति सामने वाले को खाना खिला रहा था । आपसी सौहार्द से उन्होंने कठिन परिस्थितियों में भी खुशियाँ तलाश ली थी।
.

निर्णय

गाँव के एक बच्चे ने एक संत को पराजित करने का मन बनाया। इसके लिए उसने एक बचकानी योजना तैयार की। उसने एक पक्षी को अपने हाथ में पकड़ा और संत के पास चल पड़ा।
.
उसकी योजना थी कि वह सबके सामने संत से पूछेगा कि पंछी जीवित है या मृत? यदि संत का जवाब ’मृत‘ होगा तो तुरन्त पंछी को उडा़ देगा और यदि संत ने कहा कि पंछी जीवित है, तो चुपचाप पंछी की गर्दन दबा देगा और इस प्रकार संत को गलत सिद्ध कर देगा।
.
जब लड़का संत के पास पहुँचा तो गाँव के तीस-चालीस आदमी संत के पास बैठे थे। लड़के जा कर अहंकार भरे स्वर में कहा-“यदि आप सब कुछ जानते हैं, तो मुझे बताइये कि मेरे हाथ में जो पंछी है, वह मृत है या जीवित?”
.
संत उसका सवाल सुन कर मुस्कराए और धैर्य पूर्वक बोले-“ये पंछी तुम्हारे हाथ में है, इसका वही होगा जो तुम चाहोगे।”
.
संत के जवाब से लड़के को अपनी भूल का अहसास हुआ और उसने कभी  भविष्य मे ऐसा न करने का प्रण लिया।
.
हमारा जीवन भी हमारे हाथ में है व सही-ग़लत का फै़सला भी।

भटकाव

जॉन जोन्स न्यूयॉर्क में था । उसे बोस्टन जाना था, इसलिए वह एयरपोर्ट गया और उसने टिकट ख़रीदा। उसकी उडा़न में अभी कुछ समय था, इसलिए वह वहाँ वज़न तोलने की मशीन के पास चला गया। उसने मशीन पर चढ़कर एक सिक्का डाला तो मशीन में से एक पर्ची निकली, जिस पर लिखा था-“आपका नाम जॉन जोन्स है। आपका वज़न 180 पौंड़ है और आप बोस्टन के लिए जाने वाली अगली उडान पकडने वाले हैं। आपकी उडा़न का समय है दो बजकर बीस मिनट।”
.
जॉन आश्चर्यचकित रह गया क्योंकि सारी सूचना सही थी। उसे लगा इसमें ज़रूर कोई तिकड़म है। वह दोबारा मशीन पर चढा़ और सिक्का डाला। अबकी बार जो पर्ची निकली पर लिखा था-“आपका नाम अभी भी जॉन जोन्स है। आपका वज़न अभी भी 180 पौंड है और आप अभी भी बोस्टन के लिए दो बजकर बीस मिनट वाली उडा़न पकडने वाले हैं।यह पढ़कर जॉन पहले से भी अधिक परेशान हो गया। उसे विश्वास हो गया कि इसमें अवश्य कोई चाल है। वह प्रसाधन कक्ष में गया अपने कपडे़ बदल डाले। वापस आकर वह दोबारा मशीन पर चढ़ा और सिक्का डाला। हर बार की तरह इस बार भी पर्ची निकली। लेकिन इस बार उस पर्ची पर लिखा था-“आपका नाम अभी भी जॉन जोन्स है, आपका वज़न अभी भी 180 पौंड है, लेकिन आपकी  बोस्टन वाली उडान अभी-अभी छूट गई है।”
.
हम अनावश्यक बातों में उलझकर अपनी मंजिल को भूल जाते हैं। यही भटकाव असफलता का मूल कारण है।
.

Diabetes And Healing Techniques

Diabetes is a metabolic disorder in which the person suffers from high levels of blood sugar either because of inadequate production of hormone, insulin or inability of the cells of the body to respond to the hormone. The patient experiences frequent urination, general weakness, drowsiness and becomes increasingly thirsty and hungry. Sometimes, they complain of anaemia and constipation. The allopathic treatment of diabetes involves prescription of oral hypoglycaemic drugs which comes with their own side effects. Diabetes can certainly be controlled through these but reversal or complete recovery is unheard of.
.
Understanding Causes of Diabetes from Theory of Chakra or Subtle Body System
.
Diabetes is associated with energy blockage in Third Chakra, also known as Solar Plexus Chakra or Manipura.
.
Solar Plexus Chakra is located between the navel and the base of the sternum. It is associated with the pancreas, gall bladder, liver, spleen, digestives system and nervous system. It is the energy centre for the normal functioning of our stomach and liver area. This acts as the powerhouse for our emotional balance, will power and metabolic energy.
.
Bad thoughts and emotions such as anger, insecurity, low self-esteem, fear of being alone and being overly concerned with what others perceive or think, interrupts the normal energy flow in the Solar Plexus Chakra resulting in blockages. This also has psychological influences such as excessive anger or fear, neurotic behaviour, depression and sleep problems.
.
Energy (Aura and Chakra) Healing for Diabetes
.
Anger, worry and suppressed emotions are considered to be the main culprit for causing energy blockages in Third or Solar Plexus Chakra. The key to activate and purify ‘Manipura’ is happiness. Our body has the ability to heal itself. Using techniques of Psycho Neurobics, we can transfer fresh and vital Cosmo energy from Universe to the blocked chakra. This is commonly known as ‘Chakra Cleansing’ – replacing the blocked energy in chakra with pure ‘prana’ or (life force).
.
Healing techniques like the ones listed below helps to heal inner body by removing toxins:
..
1. Visualizing yellow colour through third eye activates Solar Plexus Chakra. Yellow represents tolerance, contentment, happiness, wisdom and maturity.
2. Hastamudras such as Agni mudra and Prithvi mudra
3. Breathing Exercises.
.
Spending even 20-30 minutes every day practising these techniques especially hastamudras AND COLOUR VISUALIUSATION  can bring a sea change in your health. Seek the advice of our expert healer to learn the  techniques to capture and direct the divine energy to enjoy desired results. You can also avail the facility of distant healing in case you can not come to our center.
.

धैर्य

झब्बूमल जी रत्त्न (Gems) परखने की कला सीखना चाहते थे। वे शहर के जाने-माने जौहरी के पास गये और उससे इस हुनर को सीखने का अनुरोध किया। पहले-पहल तो जौहरी ने इनकार कर दिया, लेकिन बार-बार कहने पर उसने उन्हें अगले दिन से आने को कह दिया।
.
अगले दिन जब झब्बूमल जी वहाँ पहुँचे , तो जौहरी ने उन्हें एक रत्त्न पकडा़ दिया और अपने काम में लग गया। वह कभी रत्त्नों को काटता, कभी तोलता; लेकिन पूरे दिन में उसने झब्बूमल जी से कोई बात नहीं की। अगले दिन फिर यही हाल रहा। एक सप्ताह तक रोजा़ना झब्बूमल जी काम सीखने की ललक में जौहरी के पास पहुँचते और जौहरी उन्हें एक रत्त्नपकडा़कर अपने काम में व्यस्त हो जाता।
.
जब कभी झब्बूमल जी उससे काम सीखने की बात करते तो जौहरी उन्हें कहता कि रोज़ आते रहने से जल्दी ही वे काम में पारंगत हो जाएगें। आखि़रकार झब्बूमल जी के लिए चुप रहना दूभर हो गया। एक दिन उन्होंने तय किया कि आज वे साफ़-साफ़ पूछ लेंगे कि जौहरी उन्हें काम सिखाना भी चाहता है, या नहीं। उस दिन जैसे ही वे जौहरी के पास पहुँचे तो रोज़ की तरह जौहरी ने एक रत्त्न उनके हाथ पर रखा। झब्बूमल जी ने रत्त्न को देखते ही कहा-“यह रोज़ वाला रत्त्न नहीं है।”
.
इतना सुनते ही जौहरी मुस्कराते हुए बोला-“आप काम सीखने लगे हो। अब जल्दी ही रत्त्नों की बारीकि़याँ भी समझ लोगे।” झब्बूमल जी का क्रोध हवा हो गया और वे चुपचाप बैठ कर रत्त्न को देखने लगे। वे समझ गए थे कि लक्ष्य की प्राप्ति के लिए धैर्य आवश्यक है।
.

सफलता का रहस्य

एक  युवक ने सुकरात से सफलता का रहस्य पूछा? सुकरात ने उससे दूसरे दिन सुबह नदी के किनारे मिलने के लिए कहा। दूसरे दिन युवक सुकरात से मिलने नदी के किनारे पहुँचा, तो उन्होंने उसे नदी की ओर चलने के लिए कहा। जब पानी उनकी गर्दन तक पहुँच गया, तो सुकरात ने अचानक युवक का सिर पानी में डुबो दिया। युवक पानी से बाहर निकलने के लिए छटपटाने लगा, पर सुकरात काफी़ मज़बूत थे। उन्होंने युवक को पानी मे डुबोए रखा। युवक का शरीर जब नीला पड़ने लगा, तब सुकरात ने उसका सिर पानी से बाहर निकाला। सिर पानी से बाहर निकलते ही युवक ने सबसे पहले हवा में एक गहरी सांस ली। सुकरात ने युवक से पूछा, “जब तुम पानी के अंदर थे, तो तुम्हें किस चीज़ की ज़रूरत सबसे ज्य़ादा महसूस हो रही थी?” युवक ने जवाब दिया, “हवा की।” सुकरात ने कहा, ”सफ़लता का यही रहस्य है। जब तुम्हें सफलता हासिल करने की वैसी ही तीव्र इच्छा होगी, जैसी कि पानी के अंदर हवा के लिए हो रही थी, तब तुम्हें सफ़लता मिल जाएगी।”

मिदास का स्पर्श

हम सभी लालची राजा मिदास की कहानी जानते हैं। उसके पास सोने की कमी नहीं थी, लेकिन सोना जितना
बढ़ता, वह और अधिक सोना चाहता। उसने सोने को ख़जाने में जमाकर लिया था, और हर रोज़ उसे गिना
करता था।
.
एक दिन जब वह सोना गिन रहा था, तो एक अजनबी कहीं से आया और बोला, “तुम मुझसे ऐसा कोई भी वरदान माँग सकते हो, जो तुम्हें दुनिया में सबसे ज़्यादा खुशी दे।” राजा खुश हुआ, और उसने कहा, “मै चाहता हूँ कि जिस चीज़ को छुऊँ, वह सोना बन जाए।” अजनबी ने राजा से पूछा, “क्या तुम सचमुच यही चाहते हो?”
राजा ने कहा, “हाँ”, तो अजनबी बोला, “कल सूरज की पहली किरण के साथ ही तुम्हें किसी चीज़ को छूकर
सोना बना देने की ताक़त ( Golden Touch ) मिल जाएगी।”
.
राजा ने सोचा कि वह सपना देख रहा होगा, यह सच नहीं हो सकता। लेकिन अगले दिन जब राजा नींद से उठा,
तो उसने अपना पलंग छुआ और वह सोना बन गया। वह वरदान सच था। राजा ने जिस चीज़ को छुआ, वही
सोना बन गई। उसने अपनी बिटिया को यह अजूबा दिखाना चाह, और सोचा कि वह ख़ुश होगी। लेकिन बग़ीचे
मे जाने से पहले उसने एक किताब पढ़ने की सोची। उसने जैसे ही उसे छुआ, वह सोने की बन गई। वह किताब
को पढ़ न सका। फिर वह नाश्ता करने बैठा, जैसे ही उसने फलों और पानी के गिलास को छुआ, वे भी सोने के
बन गए। उसकी भूख बढ़ने लगी, और वह ख़ुद से बोला, “मै सोने को खा और पी नहीं सकता।” ठीक उसी समय
उसकी बेटी दौड़ती हुई वहाँ आई, और उसने उसे बाँहों में भर लिया। वह सोने की मूर्ति बन गई। अब राजा के
चेहरे से खुशी गायब हो गई।
.
राजा सिर पकड़कर रोने लगा। वह वरदान देने वाला अजनबी फिर आया, और उसने राजा से पूछा कि क्या वह
हर चीज़ को सोना बना देने की अपनी ताक़त से खुश है? राजा ने बताया कि वह दुनिया का  सबसे दुखी इंसान
है। राजा ने उसे सारी बात बताई। अजनबी ने पूछा, “अब तुम क्या पसंद करोगे, अपना भोजन और प्यारी
बिटिया, या सोने के ढेर और बिटिया की सोने की मूर्ति।” राजा ने गिड़गिडा़कर माफी़ माँगी, और कहा, “मै
अपना सारा सोना छोड़ दूँगा, मेहरबानी करके मेरी बेटी मुझे लौटा दो, क्योंकि उसके बिना मेरी हर चीज़
मूल्यहीन हो गई है। अजनबी ने राजा से कहा, “तुम पहले से बुद्धिमान हो गए हो।” और उसने अपने
वरदान को वापिस ले लिया।
राजा को अपनी बेटी फिर से मिल गई, और उसे एक ऐसी सीख मिली जिसे वह जिंदगी-भर नहीं भुला सका।

सोने से तीन फुट दूर(सोचिये और अमीर बनिये बुक लेखक नेपोनियन हिल)

आर.यू.डार्बी के एक अंकल गोल्डरश के दौर में ” स्वर्ण की खोज के अभियान” में जुट गये। वे खुदार्इ करने और अमीर बनने के लिये पशिचम दिशा में गये। वे नहीं जानते थे कि धरती के नीचे जितना सोना छुपा है उससे कहीं ज़्यादा सोना इन्सानों के विचारों में छुपा है। वे तो कुदाली-फावडा़ लेकर ज़मीन के एक टुकडे़ पर खुदार्इ करने में जुट गये। .
कर्इ सप्ताह की मेहनत के बाद उन्हें चमकते हुये स्वर्ण की झलक दिखार्इ दी। परंतु उस सोने को सतह तक लाने के लिये मशीनों की ज़रूरत थी। चुपचाप उन्होंने खदान का मुँह ढँक दिया और मैरीलैंड के विलियम्सबर्ग के अपने घर मैं लौट आये। उन्होंने अपने रिश्तेदारों और कुछ दोस्तों को ” सोने की खुदार्इ में सफलता ” के बारे मे बताया। उन्होंने मिलकर मशीनों को ख़रीदने के लिये आवश्यक धन जुटाया। अंकल और डार्बी खदान पर काम शुरू करने के लिये वापस लौटे।
.
कच्ची धातु की पहली खेप को स्मेल्टर तक पहुँचाया गया। वहाँ यह पता चला कि उनकी खदान कालोरेडो की सबसे बढि़या खदान थी। कच्ची धातु की कुछ खेपों में ही उनके सारे कर्जे़ उतर जाते। फिर भारी मुनाफे़ की बारी आती।
.
खुदार्इ मशीनें नीचे जा रही थीं। डार्बी और अंकल की आशायें आसमान छू रही थीं। तभी अचानक कुछ हुआ। सोने की झलक गा़यब हो गर्इ। वे इन्द्रधनुष के आखि़री सिरे पर आ गये थे और स्वर्ण पात्र अब वहाँ नहीं था। वे खोदते रहे, इस आशा में कि एक बार फिर सोने की झलक दिख जाये-परंतु उनकी मेहनत बेकार गयी। आखि़रकार, उन्होंने मैदान छोडने का फैसला किया।
.
उन्होंने एक कबाडी़ को मशीनें कौडियों के मोल बेच दीं और टे्रन पकड़कर वापस घर लौट आये। कबाडी़ ने एक माइनिंग इंजीनियर को बुलवाकर खदान का इन्स्पेक्शन करवाया। इंजीनियर ने सलाह दी कि यह प्रोजेक्ट इसलिये असफल हुआ क्योंकि इसके मालिक यह नहीं जानते थे कि बीच में “फाल्ट लाइन” आती है। उसके विश्लेषण के अनुसार सोने की झलक उस स्थान से मात्र तीन फुट नीचे थी जहाँ डार्बी ने खुदार्इ बंद की थी। और इंजीनियर का अनुमान सच साबित हुआ।
.
कबाडी़ को खदान से लाखों-करोडों डालर का सोना मिला, सिर्फ इसलिये क्योंकि वह जानता था कि हार मानने से पहले विशेषज्ञ की सलाह लेना उचित होता है।

Part 3 of Chakra of Life

Chakras and Diseases
.
Well balanced, harmonious and healthy chakras are the key to holistic health – physical, emotional and psychological. The physical state of our body is actually the reflection of our emotions, thoughts and attitude towards other people, events and life as a whole. Have you ever thought why only certain people fall ill and not others? Why is it that some patients respond better to medicine and get cured while others succumb to the disease? If you have not, then this is the time to ponder over such things happening around you.
.
These arguments create a solid ground for the role of chakras in our health and wellbeing. This tells us that there is something more than what has been revealed by the traditional medical practice. In combination to the organ system, there is something else that controls the functioning of human body. Our physical body is the manifestation of inner self and consciousness.
.
Any energy blockages, holes and distortions in the Chakras results in their malfunctioning or lack of synchronization between different components of energy systems – auras, chakras, Nadis and meridians.
.
Various causes of Chakra blockages are:
.
  • Negative thoughts, emotions and attitude
  • Repressed emotions and feelings
  • Stress
  • Toxins such as chemicals, drugs, alcohol and cigarette smoking etc.
.
Malfunctioning of chakras manifest as physical illness, mental disorders or emotional setbacks. Consider the body parts and organs associated with each chakra; signs of a balanced chakra and diseases or illnesses caused by an unbalanced chakra.
.
The below table depicts the corresponding body parts and diseases with each chakra
 Picture1
 .
Balancing the Chakras
.
There are various methods through which we can restore the health of chakras – correcting the imbalance and maintaining the vitality. Few of them are briefly discussed below:
.
1. Reiki is a technique of energy exchange in which the healer directs energy from the Universe towards the patient via himself. This energy can then be channelized to different parts of the body. This helps to stimulate the natural healing abilities of the body, balancing the life energies and thus improves the health. A highly useful technique for stress reduction and relaxation, it helps to relieve pain, enhance immune system and increase vitality.
.
2. Colour Therapy is a technique that uses vibrational energy from colours to activate the chakras and bring peace and harmony in mind-body-soul. It is also known as chromo therapy. Specific colours as single or in combinations trigger self-healing. Most visible effect of colours can be seen in their impact on mood.
.
3. Yoga especially Kundalini Yoga helps to awaken the powerful dormant Kundalini energy. There are specific asanas, mudras and pranayama exercises that when practiced clears the associated chakras, bringing improved health.
.
4. Other methods such as meditation, visualization, positive thinking, affirmations, crystal therapy and aromatherapy also have similar effects on chakras balancing.

 .
About Hope Academy
.
Hope Academy is a Delhi-based Life Coaching and Spiritual Healing consultancy that has been helping people to transform their life. It was founded by Arun Saraf, who is a professional motivator, mentor and transformation specialist. Clients appreciate Hope Academy for its innovative solutions, excellent service quality and personalized attention. It has catered to both Indian and International clients from all walks of life – professionals, housewives, corporates, students, government employees, businessmen among many others. Through its vast array of products and services, Hope Academy is helping people to uproot their prolonged illnesses and psychological issues, enabling them to lead a happier, prosperous and longer life.
.
It prides in its team comprising of – Arun Saraf (Mind Power Trainer),  Rachna Saraf (Psycho Nerobics expert and Spiritual healer),  Dr. Chandrashekhar (Creator of Psycho Neurobics), Seema Bhardwaj (Reiki Healer),  Shuchita Dhawan ( Personality Development and Emotion councilor.
.
It offers following products & services:
.
 1.  Money Chalisa book and CD to attract money
 2. Health Chalisa Self-Healing CD to attract health
 3. Relaxation and Meditation Audio CD for stress management
 4. Visualization for Relationship Audio CD for healthy relationships
 5. Aura & Chakra Reading through latest Aura Resonant Imaging technique
 6. Reiki Workshop for stress management and Chakra healing
 7. Hypnosis Workshop
 8. Psycho Neurobics for cure of diseases such as arthritis, diabetes, hypertension and weight management
 9. Memory Workshop for positive thinking and enhancing mind power  through principles of law of attraction and power of subconscious mind
10.One on One session on Parenting, Relationships and Past Life Regression
Get your Aura & Chakra Reading Done Now to diagnose the health of your Chakras!

’कोई किसी से कम नही’

आज के भागदौड़ भरे इस जीवन में हम अपने आप को भूलते जा रहे हैं। एक दूसरे से आगे निकलने की एक होड़ सी लगी हुई। लोगों को यह भी नहीं पता कि उन्हें जाना कहाँ है? बस दूसरे को देखा-देखो चले जा रहे हैं। अगर हमें अपनी मंजिल का ही पता नहीं होगा तो फिर हम उस तक पहुचेंगे  कैसे।
.
हमें अपने जीवन का लक्ष्य निर्धारित करना बहुत आवश्यक है। लक्ष्य निर्धारित करने के लिए हमें योग्यताओं का आकलन करना आवश्यक है। ईश्वर ने हरेक इंसान को योग्य बनाया है, लेकिन सब की योग्यताएं अलग-अलग हैं। बस ज़रूरत है तो अपनी रुचि और योग्यता को पहचानने की। कोई अच्छा लेखक बन सकता है, कोई गायक बन सकता है, कोई खिलाडी़ बन सकता है, कोई कलाकार बन सकता है……… वगैरा-वगैरा।
.
चलिए, अब बात करते हैं अपनी योग्यता को पहचानने की। यह सवाल ज्य़ादातर लोगों के ज़हन मे उठता है। इसे पहचानने के लिए आपको सिर्फ यह देखना है  कि आपको कौन सा काम करने में सबसे अधिक आनंद मिलता है, जिसे आप बिना थके, बिना रुके घंटो करते रह सकते हैं। उस कार्य को करते समय आप दुनियादाराी की बाक़ी सभी चीजें भूल जाते हैं। रोजाना वही काम करते रहने के बावजूद, आपको उसमें नयापन दिखाई देता है। उसे करते हुए नित्य-प्रतिदिन आपके दिमाग़ मे नए-नए विचार आते रहते हैं। कभी-कभी लगने लगता है कि शायद वह काम आपके लिए ही बना है, या फिर आप उस काम के लिए ही बने हैं। अगर आप उस काम को करेंगे तो अवश्य सफल होगें।
.
दरसल, हमारा मन बडा़ चंचल होता है। जीवन में लोग अक्सर बाहरी दुनिया से प्रभावित होकर अपने लक्ष्य बनाते हैं। आपने देखा कि फलां इंजिनियर बन गया और आज खूब ठाट-बार से रह रहा है, या वह डाॅक्टर बनकर खूब पैसे बना रहा है, या वह सी.ए. बनकर माल कूट रहा है……वगैरा-वगैरा। इन्हें देखकर लोग इन जैसा ही बनने का प्रयास करने लगते हैं। उनकी देखा-देखी हो सकता है आप डॉक्टर , इंजिनियर या सी.ए. बन भी जाओ, लेकिन शायद उस काम में आप सफल न हो पाओ, या उसे करते-करते आप बोर जाओ, क्योंकि आपने अपनी रुचि से नहीं बल्कि देखा-देखी शुरू किया था। इसके बजाए हो सकता है आप किसी दूसरे काम  के लिए बने हैं जिसे आप पूरा मन लगाकर बहुत अच्छे से कर सकते हैं। इससे आपका फा़यदा तो होगा ही, साथ ही साथ समाज और देश का भी फा़यदा होगा, क्योंकि आप अपना भरपूर योगदान दें पाएंगे।
  .
ऐसा भी नहीं है कि आपने किसी से प्रेरित होकर कोई काम शुरू कर दिया और वह ग़लत ही हो। किसी काम की ओर हमारा झुकाव अक्सर हमारी रुचि और योग्यता के अनुसार ही होता है। हाँ, कभी-कभी पैसे या शोहरत की चकाचैंध को देखकर हम ग़लत निणर्य ले लेते हैं।
.
जब आप अपना लक्ष्य निर्धारित कर लेते हैं तो फिर सवाल उठता है उसे हासिल कैसे किया जाए? वैसे इंसान जब कुछ करने की ठान लेता है, तो उसे उसमें सफलता अवश्य मिलती है। लेकिन ऐसा नहीं है कि आपने कहा कि मैंने ठान लिया और बस आपको लक्ष्य मिल गया। आपके जीवन की यात्रा की असली शुरूआत ही इसके बाद होती है। क्योंकि इस दुनिया मे कोई कोई भी काम आसान नहीं है अगर इसका दूसरा पहलू देखें तो दुनिया का हर काम आसान है।

Part 2 of Chakra of Life

Kinds of Chakra
.
1. Root Chakra – ‘Muladhara’ – Survival & Stability
.
Root Chakra is located near the base of the spine. It is considered to be the base or root of all chakras, hence the name. This Chakra rules our physical energy and is associated with our emotional needs for day to day survival instincts. It is related to security, passion, vitality and energy. It regulates the adrenal gland and release of adrenaline hormone, which is associated with ‘fight and flight’ in fear and anxiety. When the Chakra is balanced we feel secure, stable and grounded; under activity makes us fearful and nervous; and over activity results in greed and materialistic outlook towards life.
.

2.  Sacral Chakra – ‘Swadhishtana’ – Sexuality
.
Sacral Chakra is the second chakra and is located near tailbone in the area of navel and lower abdomen. It governs are emotions and feelings, is often associated with sexuality and sensuality. It closely works with reproductive system. At psychological level, it manifests in creativity, sexuality, happiness, self-love, pleasure, ambition, empathy, change, warmth and intimacy. It allows one to enjoy the life, achievements and relationships. When the Sacral Chakra is balanced one is better able to go along with the life’s flow and accept the changes in life; under activity makes one stiff and rigid and over activity makes one extremely emotional. The malfunctioning of this second chakra makes one feel unloved and fall prey to addictions to alcohol, drugs and smoking.
.
3. Solar Plexus Chakra – ‘Manipura’ – Self Esteem
.
Solar Plexus Chakra is the third primary chakra in human energy system. It is located in the lower abdomen below navel and digestive system. This acts a storehouse of energy and is associated with psychological influences of power, will power, dynamic nature, movement, initiative, risk-taking and go-getter attitude. It controls our sense of self-esteem and authority. In terms of endocrine system, it relates to pancreas, digestive system and adrenal cortex (outer part of adrenal glands). Thus the third chakra has an influence on our digestion and metabolism. When it is open, one feels in control of oneself and has sufficient self-esteem; under activity makes one passive and timid; and over activity generates a domineering and aggressive attitude.
.
4.  Heart Chakra – ‘Anahata’ – Love and Compassion
.
It is the fourth chakra and is located at the heart. It helps one to take decisions by what we say ‘follow your heart’. It is associated with one’s higher self and does not arise from the unfulfilled emotions or materialistic desires. It guides the emotions such as those of unconditional love, compassion, forgiveness, acceptance of surroundings and a deep sense of peace and harmony with nature. The associated endocrine gland is thymus. When it is open, one feels compassionate, being loved and able to develop harmonious relationships; under activity makes one cold and detached and over activity leads of suffocation of other people by too much love. It is related to negative emotions of bitterness, greed and thoughtlessness.
.
5. Throat Chakra – ‘Vishuddhi’ – Communication
.
This is the fifth chakra and is located in the neck region, close to the spine. It is also referred to as Purification Centre. It is closely related to the sensory functions of hearing and speaking. In the endocrine system, it is connected to thyroid gland and produces hormone thyroxin which is essential for growth and maturation. It governs communication, creativity and self-expression. It helps one gain clarity between what is wrong and right for oneself thus facilitates formation of our belief system.  When it is open, one finds it very easy to express oneself; under activity affect the power of speech and makes on introvert; and over activity manifests as being a bad listener and dominating attitude. A balanced throat chakra increases self-confidence and makes one decisive.
.
6. Third Eye Chakra – ‘Ajna’ – Intuition
.
This is the sixth chakra and is situated in the brain, directly behind the centre of the forehead. Its activation region is in the eyebrow, at the position of third eye. The energy from this chakra translates into intuition and intellect. The associated sensory organ is the mind. The nature of Ajna Chakra is largely mental and it is related to inner visions, mysticism and clairvoyant abilities. When it is open, individual is able to get a gut feeling of things happening around him; under activity leads to confusion and over activity results in fantasy and hallucination.
.
7. Crown Chakra –‘Sahasrara’ – Connection/Union
.
This is the seventh primary chakra and is also known as ‘Crown Chakra’ because it is located at the top of the head. This symbolizes detachment from illusion and helps one to achieve higher consciousness. In endocrine system, it is linked to pineal and pituitary gland. When balanced and acknowledged it creates a state of ultimate bliss and one transcends from the physical world to integrate with greater self or divine energy. When open, it makes one aware of oneself in relation to the world; under activity results in being completely unaware of spirituality and over activity causes giving up bodily needs. This is majorly responsible for complete harmony of mind-body-soul.
.
The table below describes the key features of each Chakra.
Picture1


Watch out this space for more on overcoming diseases through chakra healing On 17th August 2013

CHAKRAS OF LIFE

Introduction
.
Spiritual healing is gaining stronger grounds as more and more finds the side effects and limitations of traditional medicine. Many people have experienced the benefits of spiritual healing in overcoming prolonged illnesses and restoration of general wellbeing. The benefits are realized only when one strongly believes in the power of alternative therapy, which comes only when you are aware where it originates from and how it heals.
.
With the above background, Hope Academy brings forth this eBook on Chakras of Life to shed light on the human chakra system to help its readers gain a better understanding of the invisible (to a naked eye) components of human body.  This book answers lot of questions and doubts one has about the Chakras and the role they play in human health.
Questions Addressed
.
1. Why should I know about Chakras?
.
2. What does Chakras mean?
.
3. Which are the seven primary Chakras?
.
4. What is the role played by each of the 7 Chakras in our health?
.
5. How malfunctioning of Chakra causes diseases?
.
6. How can Chakras be healed and balanced?
.
Following will benefit immensely from this eBook:
.
1. Those who are suffering from any disease such as diabetes, heart troubles, arthritis, depression and cancer etc. and are unable to find relief from traditional medical treatment.
.
2. Those who practice or are learning to practice spiritual healing and alternative therapy.
.
3. Those who wish to enhance their personal knowledge and awareness about this discipline.
.
It addresses following issues in a simple and easy to understand manner.
.
Drawing upon the personal and professional experience/qualifications of our trainers, Chakras of Life presents practical tips to transform one’s health.
.
Read on for a better and healthier you!
.
Why should I know about Chakras?
.
Humans have an intrinsic energy system that takes care of the proper functioning of the body’s organ system. They are responsible for good health and wellbeing. Chakras act as the connection between our physical body and metaphysical elements in the Universe.
.
There are various reasons why one should know about the Chakra System as given below:
.
1. To enhance one’s self awareness of how our emotions, thoughts and attitudes affect our overall health.
.
2. It provides a different perspective to understand the causes of illness.
.
3. It sheds light on basics of alternative medicine to cure diseases.
.
4. It helps one to lead a more holistic and fulfilling life.
.
 
Understanding Chakras
.
Chakras is defined as the spinning or rotating wheels of electromagnetic energy at certain specific positions in human body. These are also known as ‘Energy Centres’ or Energy Points’. These act as the gateways or exchange points for energy. They are the links between the Aura and the organs of our body i.e. subtle and physical nature of human body.
.
Aura absorbs the cosmic energy from Universe which is collected and processed at these central points and then distributed to various body parts through a system of channels known as Nadis and Meridians. High frequency energy, vibrating at an optimal level, is only suitable for our body processes. So chakras release the high frequency to the physical body and pulls back the low frequency energy for conversion. This high frequency energy is actually the life force, known as ‘Prana’ which are so essential for wellbeing of humans.
.
Chakras are connected to our endocrine system which regulates the release of hormones that regulate all the processes of our body. There are seven main Chakras and seven endocrine glands, that is to say, each Chakra is associated with one particular endocrine gland.
.
There are innumerable chakras in our body but the most prominent are only seven which are connected to the spinal cord and head.
.
These seven main Chakras are as following:
.
1. Root Chakra
.
2. Sacral Chakra
.
3. Solar Plexus Chakra
.
4. Heart Chakra
.
5. Throat Chakra
.
6. Third Eye Chakra
.
7. Crown Chakra

In the next instalment we will look at each of these Chakras in greater details on 16th August 2013.

विनम्रता


झब्बूमल जी एक गुरू के पास पहुंचे और पूछा-“जीवन में भारीपन क्या है और हल्कापन क्या है?”
गुरूजी के पास पीने के पानी का पात्र् रखा था। उन्होंने उस पात्र में पाँच-सात लौंग डाली। पानी में गिरते ही कुछ लौंग पात्र की तली में बैठ गई और कुछ ऊपर तैरने लगीं।
झब्बूमल जी ध्यान से पात्र को देखते रहे और सोचने लगे कि जब सारी लौंग एक-सी हैं तो फिर इनके व्यवहार में इतना अन्तर क्यों! चेहरे पर सवाल  लिए वे गुरूजी की ओर देखने लगे। गुरूजी उनकी उत्सुकता को समझ गए और बोले-“ध्यान से दोनों प्रकार की लौंग को देखो तो तुम्हें तुम्हारे सवाल का जवाब  मिल जाएगा।”
थोडी़ देर तक कौतूहल से झब्बूमल जी इस अजब पहेली को समझने की कौशिश करते रहे और अचानक देखा कि जो लौंग पानी के तल में बैठ गई थीं उनके ऊपर का फूल गा़यब था और जो लौंग ऊपर तैर रहीं थीं, वे साबुत थीं।
तत्काल झब्बूमल जी गुरूजी के संदेश को समझ गए कि टोपी विनम्रता का प्रतीक है, जब तक यह रहती है तो लौंग को ऊँचा रखती है, और जब आदमी की टोपी उतर जाती है तो वो डूब जाता है।

अनुगूंज



एक छोटा-सा बच्चा अपनी माँ से नाराज़ हो कर चिल्लाने लगा-“मैं तुम से नफ़रत करता हूँ। मैं तुम से नफ़रत करता हूँ.....”
पिटने के डर से वह घर से भाग गया और पहाडि़यों के पास जाकर चिल्लाने लगा। जब उसने पहाड़ पर जाकर वही वाक्य दोहराया, तो उसी का वाक्य लौट कर उसे सुनाई देने लगा। बच्चे ने पहली बार अनुगूंज सुनी थी।

वह डर गया और लौट कर अपनी माँ के पास आकर बोला-“माँ! घाटी में एक बुरा बच्चा रहता है, जो हमेशा चिल्लाता रहता है कि मैं तुमसे नफ़रत करता हूँ।

उसकी माँ सारी बात समझ गई और उसने अपने बेटे से कहा कि वह पहाडी़ पर फिर से जाकर चिल्लाए, लेकिन अबकी बार वह यह कहे कि मैं तुमसे प्यार करता हूँ।

छोटा बच्चा डरते-डरते पहाडी़ पर गया और जो़र से चिल्लाया-“मैं तुमसे प्यार करता हूँ, मैं तुमसे प्यार करता हूँ।क्षण भर में ही पूरी घाटी में यह वाक्य गूंज उठा।

लड़का अपनी ग़लती समझ गया और अपनी माँ की सीख भी उसने गाँठ बांध ली, कि दुनिया हमें वही वापस करती है, जो हम दुनिया को देते हैं। सो, हमें दुनिया के लिए नहीं, खुद के लिए अच्छा बनना है।